मुख्य लिंक

                                       मुखपृष्ठ   गीत     गजल     कविताएं

Wednesday, September 4, 2013

लग गयी मुल्क को किसकी नजर


राजेश त्रिपाठी
जाने कैसा ये दौरे सियासत है।
हर शख्स दर्द की इबारत है।।
हर सिम्त घात में हैं राहजन।
या खुदा ये कैसी आफत है।।
अब कौन करे भला जिक्रे महबूब।
मुश्किलों की ही जब इनायत है।
किस तरह बचाये कोई खुद को।
राह में जब बिछी अलामत है।।
महफूज रखे है तो मां की दुआ।
वरना लम्हा-लम्हा एक सामत है।।
लग गयी मुल्क को किसकी नजर।
न चैन है न खुशी न कहीं राहत है।।
या खुदा अब कोई तो राह पैदा कर।
यहां सियासत भी अब तिजारत है।।

1 comment:

  1. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    ReplyDelete